"जागो तुमी जागो " - जाने क्या है महालया? | Hazaribagh Live

“जागो तुमी जागो ” – जाने क्या है महालया?

Nitish Kumar Sep 30th, 2016 Tags: , ,

mahalaya
शरद ऋतु के आते ही , पूरी दुनिया के हिंदुओं के उत्सव के उत्साह को देखा जा सकता है । “महालया” दुर्गा पूजा के अंतिम तैयारियों को पूरा करने और दुर्गा पूजा के पावन नौ दिनों में प्रवेश करने का द्धार है ।

महालया क्या है ?

महालया दुर्गा पूजा के सात दिन पहले मनाया जाता है , और दुर्गा, जो सर्वोच्च शक्ति की देवी है, उनके के आगमन के रूप में देखा जाता है । महालया के सुबह “जागो तुमी जागो ” यह मंत्र का मंगलाचरण दुर्गा माता के पृथ्वी पर निमंत्रित करने के लिए देवी मां को निमंत्रण देने का एक प्रकार है। यह मंत्र और भक्ति गीत के जप के माध्यम से किया जाता है।
महालया और बीरेंद्र कृष्ण भद्र का जादू

“महिषासुर मर्दिनी”, बीरेंद्र कृष्ण भद्र के इस गायन को महालया को यादगार बनाने के लिए याद किया जाता है । “महिषासुर मर्दिनी” के पीछे जादुई आवाज है बीरेंद्र कृष्णा भद्रा का, उनका प्रसिद्ध कथावाचक एवम पवित्र मन्त्रों का पाठ तथा पृथ्वी पर दुर्गा के आवतरण की कहानी अपनी अनोखी शैली में कहता है।

“महिषासुर मर्दिनी” की कहानी

कहानी का तत्व लुभावना है। यह दानवराज महिषासुर का देवताओं के खिलाफ की बढ़ती क्रूरता को बताता है। उसके अत्याचार से तंग आकर देवतागन श्री विष्णु से निवेदन करते है कि वह सभी दानव का अंत करने में असमर्थ है। देवी दुर्गा या ‘महामाया’ की उत्पत्ति हेतु ब्रह्मा विष्णु एवम महेश के शक्तियों के मेल से होता है । देवताओं व त्रिदेओं के अस्त्र और शक्तियों से सुसज्जित देवी दुर्गा शेर की सवारी करते हुए महिसासुर का वध करती है ।

या देवी सर्वभुतेशु शक्ति रूपेण संस्थिता:, नमस् तस्यै, नमस् तस्यै, नमस् तस्यै नमो नमः

टॉप खबरें

लाइव विज़िटर्स

फेसबुक